30+ Awara Aashiq Status in Hindi – आवारा शायरी एंड कोट्स

जब प्यार से भरोसा उठ जाता है, और लोग होश खो बैठते हैं, तब अक्सर अपने जज़्बातों को बयान करने के लिए  Awara Aashiq Status in Hindi – आवारा शायरी एंड कोट्स का ही इस्तेमाल करते हैं.

दोस्तों, मोहब्बत के बहुत से स्टेज होते हैं, जैसे शुरूआती दिनों का इश्क़, लड़ाई-झगडे, ब्रेकअप-पैचअप, आदि. कुछ लोग तो ब्रेकअप के बाद खुद को बहुत ही खूबसूरती से  संभाल लेते हैं, लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो किसी अपने के जाने के बाद बिलकुल तनहा और उदास हो जाते हैं. और लोग इन्हे आवारा और दीवाना जैसे नाम देते हैं.

अक्सर ब्रेकअप के बाद लोगों को अपने जज़्बात बयान करने के लिए गानों और आवारा शायरी का सहारा लेना पड़ता है. लोग इन शायरी को ढूंढने के लिए तरह तरह की किताबें खरीदते हैं जिनमे उन्हें घिसी-पिटी शायरी के अलावा और कुछ नहीं मिलता. फिर अंत में वे लोग फेसबुक और इंस्टाग्राम के कुछ पेज से पुरानी शायरी को अपने स्टेटस पर लगाते हैं.

कम चॉइस होने के कारण वे अपने पसंद की शायरी नहीं ढूंढ पाते. लेकिन आज हम आपके लिए कुछ ऐसी ज़बरदस्त और नयी शायरी लाये हैं जिनको आपने आज से पहले कही नहीं पढ़ा होगा. ये शायरी हमारे एडिटर्स ख़ास आपके लिए लाये हैं जिनमे से आप अपने पसंद ही शायरी को व्हाट्सप्प, फेसबुक, इंस्टाग्राम या ट्विटर पर आसानी से शेयर कर सकते हैं. दोस्तों, इन शायरिओं में वह जज़्बात हैं जिनकी आपको तलाश हैं. तो अब बिना ज़्यादा समय गवाए, अपने पसंद की शायरी को नीचे से छांट लें.

Awara Aashiq Status in Hindi – आवारा शायरी एंड कोट्स

आवारा शायरी

आवारा शायरी 

 

Aawargi Chhod Di Hamne To Log Humein bhoolne lage hain…
Warna Shohrat Kadam Chumti Thi Jab Hum kabhi Badnaam hua karte the….

आवारगी छोड़ दी हमने तो लोग हमें भूलने लगे,
वरना शोहरत कदम चूमती थी जब हम कभी  बदनाम हुआ करते थे।

 

Bhala kyu meri Awaragi Pe
Ungli Uthate Hain Duniya waale,
Mai to ek Aashik hu,
Dhoondhta hu sirf wafa nibhaane waale….

भला क्यों मेरी आवारगी पे
ऊँगली उठाते हैं दुनिया  वाले,
मैं तो एक आशिक हूँ
ढूढता हूँ सिर्फ वफ़ा निभाने वाले।

 

Na Use Shakhon Ne Di Panah, Aur Na Hawaon Ne Bakhsha,

Woh Patta Aawara Na Banta To Bhala Aur Kya Karta.

न उसे शाखों ने दी पनाह, और न हवाओं ने बख्शा,
वो पत्ता आवारा न बनता तो भला और क्या करता।

 

Hamari Is Aawargi Me Kuchh Qasoor Tumhara Bhi Hai Sanam.
Jab Tumhari Yaad Aati Hai To Ghar Achha Nahi Lagta.

हमारी इस आवारगी में कुछ कसूर तुम्हारा भी है सनम,
जब तुम्हारी याद आती है तो घर अच्छा नहीं लगता।

 

Meri Aawargi Thi Aur Mera Junoon Tha,
Tere Pyaar Ke Nashe Mein Main Poora Choor Tha,
Logo Ne Kaha Tera Ishq Gehra Sagar Hai,
Magar Tujh Mein Doob Jaana Hi Mujhe Manjoor Tha.

मेरी आवारगी थी और मेरा जूनून था,
तेरे प्यार के नशे में मैं पूरा चूर था,
लोगो ने कहा तेरा इश्क़ गहरा सागर है
मगर तुझ में डूब जाना ही मुझे मंजूर था।

 

Tere Baad Kisi Ko Pyar Se Na Dekha Maine,
Mujhe Mohabbat Ka Shauk Hai Aawargi Ka Nahi.

तेरे बाद किसी को प्यार से ना देखा मैंने,
मुझे मोहब्बत का शौक है आवारगी का नहीं।

 

Bada Mushkil Hai Bamjaara Mijaji,
Saleeka Bhi Chahiye Janaab Aawargi Mein.

बड़ा मुश्किल है बंजारा मिजाजी,
सलीका भी चाहिये जनाब आवारगी में।

 

आवारापन शायरी इन हिंदी

Ek Rooh Hai Jisko Panaah Chahiye,
Ek Mijaaj Hai Jisko Aawargi Ki Talab.

एक रूह है जिसको पनाह चाहिए,
एक मिजाज है जिसकोआवारगी की तलब।

 

Aawargi Ki Raah To Zindagi Bhar Chalti Rahi,
Kahin Par Bhi Magar Mohabbat Ka Basera Nahin Hua.

आवारगी की राह तो जिंदगी भर चलती रही,
कहीं पर भी मगर मोहब्बत का बसेरा नहीं निकला।

 

Un Dino Hamari Shaksiyat-O-Aawargi Ke Charche Aam Hote Rahe,
Kuch Chubhte Alfaazon Ko Zuban Pe Hum Bhi Be-Aaaraam Hote Rahe,
Samay Ki To Fitrat Hai Apni Raftaar Mein Chalne Ki,
Wo Apne Andaaz Mein Chalta Gaya Aur Hum Badnaam Hote Rahe.

उन दिनों हमारी शख्सियत-ओ-आवारगी के चर्चे आम होते रहे,
कुछ चुभते अल्फाजों को जुबां पे हम भी बे-अरमान होते रहे,
समय की तो फितरत है अपनी रफ़्तार में चलने की,
वो अपने अंदाज़ में चलता गया और हम बदनाम होते रहे।

आवारा शायरी फॉर फेसबुक

Ai Zindagi Kis Or Le Chali Ho Humein,
Ye Aawargi To Hamko Kharab Kar Gayi.

ऐ ज़िन्दगी किस ओर ले चली हो हमें,
ये आवारगी तो हमको खराब कर गयी।

 

Log Hamein Awara Kehte Hain,
Der Raat Ko To Chand Bhi Nikalta Hai,
Fir Bhala Kyu Log Use Chand,
Aur Humko Awara Kehte Hain

लोग हमें आवारा कहते है
देर रात को तो चाँद भी निकलता है
फिर भला क्यों लोग उसे चाँद
और हमको आवारा कहते है

 

Aawargi Chhodh Di Maine,
To Log Bhulne Lage Mujhe,
Varna Shahorat mere Kadam Choomti thi,
Jab Mai Badnaam Hua Karta Tha…

आवारगी छोड़ दी मैंने
तो लोग भुलनें लगे मुझे
वार्ना शौहरत मेरे कदम चूमती थी….
जब मैं बदनाम हुआ करता था

 

Awara Alfaazon Ko Panaah Dekar,
Un Alfaazon Ki Shayari Bana Denge,
Khoobsurat Sapno Ko Kaid Kar,
Un Sabko Geet Bana Denge….

आवारा अल्फ़ाज़ों को पनाह देकर
उन अल्फ़ाज़ों की शायरी बना देंगे
खूबसूरत सपनों को क़ैद कर
उन सबको गीत बना देंगे

 

Pyaar ke Deepak Jalaane Wale,
Kuch Kuch Deewane Hote Hain Aawaragi Me,
Khudki Jaan Se Jaan Wale,
Kuch Kuch Deewane Hote Hain Aawaragi Me…

प्यार के दीपक जलाने वाले
कुछ कुछ दीवाने होते है आवारगी में…
खुदकी जान से जाने वाले
कुछ कुछ दीवाने होते हैं आवारगी में…

 

Uski Parchhai Ban Ke Uske Sath Chalna Hai Aawargi,
Uski Dhadkan Ban Ke Uske Dil Me Dhadakna Hai Aawargi..

उसकी परछाईं बन के उसके साथ चलना है आवारगी
उसकी धड़कन बन के उसके दिल में धड़कना है आवारगी

 

आवारगी शायरी इन उर्दू

 

Jis Se Mohabbat Karte Ho Usi Se Ladte Ho Yah Hai Aawargi,
Mohabbat Me Dimag Ki Nahi Dil Ki Baat Sunte Ho Yah Hai Aawargi…
Jisse Mohabbat Karte Ho Jaan Se Zyada Wo Hai Aawargi,
Ek-Ek Samay Uske Naam Kar Dete Ho Vo Hai Aawargi
Usse Chhup Chhup Ke Milte Ho Vo Hai Aawargi…

जिससे मोहब्बत करते हो उसी से लड़ते हो यह है आवारगी
मोहब्बत में दिमाग की नहीं दिल की बात सुनते हो यह है आवारगी
जिससे मोहब्बत करते हो जान से ज्यादा वो है आवारगी
एक-एक समय उसके नाम कर देते हो वो है आवारगी
उससे छुप छुप के मिलते हो वो है आवारगी…

 

Ye To Dekhne Ka Saleeka Hai Aawaragi,
Kaun Bhala Kisse Hai Kisne Jana Aawaragi…

ये तो देखने का सलीका है आवारगी
कौन भला किससे है किसने जाना आवारगी…

 

आवारा शायरी फॉर बॉयज

 

Ye Hai Aawara-Tabiyat Aur Wo Thehre Nazuk-Mizaaz,
Mai Jigar-e-Varafta Nazr-e-Yaar Kar Sakta Nahi….

ये है आवारा-तबीअत और वो ठहरे नाज़ुक-मिज़ाज
मैं जिगर-ए-वारफ़्ता नज़्र-ए-यार कर सकता नहीं

 

Kabhi Socha Na Tha Yah Din Ayega,
Mere Is Aawara Dil Ko Tu Bhool Jayega,
Nachegi Saari Dharti Ambar Jhoom Uthega,
Anjaan Nagri Me Koi Sanam Mil Jayega

कभी सोचा न था यह दिन आएगा
मेरे इस आवारा दिल को तू भूल जायेगा
नाचेगी साड़ी धरती अम्बर झूम उठेगा
अन्जान नगरी में कोई सनम मिल जायेगा

 

Vo Bandagi Ki Aisi Misaal Dete Hain,
Aawaragi Ko Sharafat Me Dhaal Dete Hain..

वो बंदगी की ऐसी मिसाल देते हैं,
आवारगी को शराफत में ढाल देते हैं

 

Sare Bajaar Mein Niklun Toh Aawargi Ki Tohmat,
Akele Mein Baithhu Toh Ilzam-E-Mohabbat.

सरे बाज़ार में निकलूं तो आवारगी की तोहमत,
अकेले में बैठूं तो इल्जाम-ए-मोहब्बत।

 

आवारा शायरी फॉर स्टेटस इन हिंदी

 

Ye Mohabbat Toh Marz Hi Burhape Ka Hai Dosto,
Jawani Mein Humein Fursat Hi Kahan Aawargi Se.

ये मोहब्बत तो मर्ज़ ही बुढ़ापे का है दोस्तो,
जवानी में हमें फुर्सत ही कहाँ आवारगी से।

 

Ghar Mein Se Nikal Pade Hain Awaargi Uthaa Kar,
Humko Yahi Bahut Hai Asbaab Iss Raah Mein.

घर में से निकल पड़े आवारगी उठा कर,
हमको यही बहुत है असबाब इस राह में।

 

Kaagaz Ki Naav Thi Paani Ka Kinara Tha,
Khelne Ki Masti Thi Aur Dil Bhi Awara Tha,
Kaha Fans Gaye Ham Is Samajhdari Ke Daldal Me,
Vo Naadan Bachpan Hi Kitna Pyaara Tha….

कागज की नाव थी पानी का किनारा था,
खेलने की मस्ती थी और दिल भी आवारा था,
कहा फंस गए हम इस समझदारी के दलदल में,
वो नादान बचपन ही कितना प्यार था…

 

Saari Raaz Khol Dete Hain Naazuk Se Ishaare Aksar,
Kitne Khamosh Ishq Ki Zubaan Hote Hain,
Ishq Ek Khushboo Hai Hamesha Sath Rehta Hai,
Koi Insaan Aawargi Me Kabhi Tanha Nahi Rehta

सारे राज़ खोल देते हैं नाजुक से इशारे अक्सर,
कितनी खामोश इश्क़ की जुबान होती है.
इश्क़ एक खुशबू है हमेशा साथ रहती है,
कोई इंसान आवारगी में भी कभी तन्हा नहीं रहता.

 

 

Awara Patton Ki Tarah Main Zamane Ke Jhonke Mein Udta Raha,
Na Jaane Kaisi Kismat Thi, Jo Hawa Mein Behta Gaya,
Na Ruka, Na Jhuka Aur Na Kabhi Thama,
Main Aawaro Ki Basti Me Basta Hi Gaya….

आवारा पत्तों की तरह मैं ज़माने के झोंके में उड़ता रहा
न जाने कैसी किस्मत थी, जो हवा में बहता गया,
न रुका, न झुका और न कभी थमा,
मैं आवारों की बस्ती में बस्ता ही गया…..

Ek Hi Pal Me Tumne Humein Paraya Banaya Diya,
Humare Saare Sapno Ko Tumne Thukra Diya,
Apne Mohabbat Karne Wale Ko Begaara Bana Diya,
Ek Achche Musafir Ko Tumne Raaho Ka Aawara Bana Diya..

एक ही पल में तुमने हमें पराया बना दिया,
हमारे सारे सपनो को तुमने ठुकरा दिया,
अपने मोहब्बत करने वाले को बेगारा बना दिया,
एक अच्छे मुसाफिर को तुमने राहो का आवारा बना दिया….

 

आवारा शायरी इन हिंदी 

 

Kya Pal Tha, Kya Din The,
Jab Hum Aapke Aashiqui Mein Choor The,
Pichhe Mud Ke Dekhta Hun To Khush Hota Hun,
Aaj Hum Aawara Hain, Tab Kisi Raja Se Kam Na The…

क्या पल था, क्या दिन थे,
जब हम आपके आशिक़ी में चूर थे,
पीछे मुड़ के देखता हूँ तो खुश होता हूँ,
आज हम आवारा हैं, तब किसी राजा से कम न थे…

Is Aawaragi Mein Log Humein Badnaam Karte Rahe,
Hum Aaj Bhi Aapse Wafa Karte Hain,
Aur Aaj Bhi Aap Humein Deewana Kehte Rahe…

इस आवारगी में लोग हमें बदनाम करते रहे,
हम आज भी आपसे वफ़ा करते हैं,
और आज भी आप हमें दीवाना कहते रहे…..

 

संक्षेप में

दोस्तों, हमारा आर्टिकल 30+ Awara Aashiq Status in Hindi – आवारा शायरी एंड कोट्स आपको कैसे लगा? हम उम्मीद करते हैं की आपको यह आर्टिकल बेहद पसंद आया होगा  माध्यम से अपने जज़्बातों को अच्छे से बयां कर पाए होंगे. हमने इस आर्टिकल के ज़रिये आपको आवारगी से जुडी कुछ शायरी प्रस्तुत करने की कोशिश की है जिनको आप किसी भी सोशल नेटवर्किंग साइट पर आसानी इ लगा सकते हैं.

अगर इस पोस्ट के ज़रिये आप अपने आवारा शायरी को शेयर करने का मकसद को पूरा कर पाए हों, तो कृपया कमेंट बॉक्स में हमें ज़रूर बातएं. इस पोस्ट को अपने रिश्तेदारों और दोस्तों के साथ भी शेयर करें ताकि वे भी काम आने पर इस पोस्ट का भरपूर फायदा उठा पाएं. हम आपके लिए ऐसे भी बेहतरीन शायरी आगे भी लाते रहेंगे.

धन्यवाद.

Leave a Comment