दशहरा पर निबंध – Essay on Dussehra in Hindi

क्या आप  दशहरा पर निबंध (Essay on Dussehra in Hindi) की तलाश कर रहे हैं. अगर आप एक छात्र हैं और अपने स्कूल या कॉलेज के लिए दशहरा पर निबंध तैयार करना चाहते हैं तो आप बिलकुल सही जगह पर हैं. मैं यहाँ पर आपको दशहरा के ऊपर हर क्षेत्र से बहुत सी जानकारी दूंगा। आप यहाँ जान सकेंगे की दशहरा क्यों शुरू हुआ और इसको मानाने के पीछे का कारण क्या है. तो इस पोस्ट के साथ बने रहे और आपकी अपनी जानकारी यहाँ से हासिल करे।

तो चलिए जानते हैं की दशहरा क्या है और ये किस तरह से इतनी सदियों से मनाया जाता रहा है। आप अपने स्कूल और कॉलेज के लिए  दशहरा पर निबंध (Essay on Dussehra in Hindi) के लिए सारी महत्वपूर्ण जानकारी यहाँ से ले सकते हैं।

दशहरा क्या है ? दशहरा पर निबंध

दशहरा भारत में मनाये जाने वाला हिन्दुओ का एक सबसे प्रमुख त्यौहार है। ये त्योहार आश्विन महीने के शुक्ल पक्ष में दस दिनों तक मनाया जाने वाला त्योहार है।  दस  दिनों माँ दुर्गा के विभिन्न रूपों की हर अलग अलग दिन पूजा अर्चना की जाती है। इस त्योहार के सबसे आखिरी दिन को विजयदशमी के रूप में मनाया जाता है।

माता दुर्गा शक्ति की आधिष्ठात्री देवी कही जाती है। जीवन में शक्ति को बहुत उच्च स्थान दिया जाता है. इसीलिए इसका महत्वा बहुत जअधिक होता है। अतः इसीलिए विजयदशमी के दिन माँ दुर्गा से लोग शक्ति का वरदान मांगते हैं।  बंगाल,झारखण्ड, और बिहार इन स्थानों में महिषासुर के साथ सभी देवी देवताओं और माता दुर्गा की विशाल प्रतिमाएं स्थापित की जाती है। विजयदशमी के अवसर पर 9 दिनों तक हर रोज़ दुर्गासप्तशती की पाठ की जाती है।  पूजा तो चलती रहती है उसके साथ साथ नगाड़े ढोल मांदर और शंख भी बजते रहते हैं. पूरा वातावरण मंत्रो और संगीत के मिश्रण से भरा रहता है।

जितने भी पूजा स्थल होते हैं सभी जगह भव्य आयोजन किया जाता है।  हर तरफ भारी उमड़ती है। लोगों का ताँता लगा रहता है। हर मंदिर में ख़ास तौर पर पूजा अर्चना का आयोजन  किया जाता है।  मंदिरो में प्रसाद और लंगर बांटे जाते हैं। ये भारत के हर प्रान्त में अलग अलग तरीको से मनाया जाता है।  कहीं कहीं भव्य और विशाल पंडाल का निर्माण किया जाता है तो कहीं बड़ी बड़ी प्रतिमाएं स्थापित की जाती है। इन दस दिनों तक लोगो की भीड़ उमड़ी हुई होती है. कई स्थानों में तो मेलों का भी आयोजन किया जाता है। नयी नयी दुकाने सजाई जाती है।  तरह तरह के सामान बेचे जाते हैं।  और मिठाइयों की दुकानों में तरह तरह के मिष्ठान भी उपलब्ध होते हैं। इस त्यौहार के लिए हर तरफ खूब सजावट की जाती है.

दशहरा का हर भारतीय के दिल में विशेष महत्व है. क्यों की ये जब आता है तो अपने संग खुशियों की भंडार को लेकर आता है.  इस त्यौहार के कुछ विशेषताएं तो आप समझ चुके होंगे। चलिए अब हम अपने देश के छात्रों के लिए 100 , 200 ,300 ,400 शब्दों के निबंध प्रस्तुत करते हैं जो अपने विद्यालय में निबंध के रूप में प्रयोग कर सकते हैं।

दशहरा पर निबंध (Essay on Dussehra in Hindi) 100 words

दशहरा भारत में मनाये जाने वाला सबसे प्रमुख त्यौहार है। इस हम प्रायः विजयदशमी के नाम से भी जानते हैं. ये पुरे देश में हर हिस्से में बहुत ही उत्साह और उमंग से मनाया जाने वाला त्यौहार है। इस के मनाये जाने के पीछे बहुत बड़ी कहानी है।  इस के पीछे की कहानी हमे महँ धर्मग्रन्थ रामायण से मिलती है।  इसके अनुसार लंकापति रावण जब सीता माता का अपहरण कर के लंका ले गया तो श्री राम ने वानर सेना के साथ लंका पर चढ़ाई कर के रावण का वध किया।  इस तरह हर वर्ष इस दिन को दशहरा के रूप में मनाया जाता है।

दशहरा पर निबंध (Essay on Dussehra in Hindi) 150  words

हिन्दू धर्म में दशहरा एक बहुत बड़ा पर्व है।  जो हर साल बड़े ही उत्साह के साथ भारत के हर प्रान्त में मनाया जाता है। इस दिन श्री राम ने रावण का वध कर के सीता माता को लंका से वापस लाये थे. इसमें रामभक्त हनुमान और सुग्रीव की वानर सेना ने उनका साथ दिया था। ये मान्यता है की रावण की बहन शूर्पनखा के नाक और कान लक्ष्मण ने काट दिया था।  इससे गुस्सा होकर रावण ने सीता माता का अपहरण  कर लिया।  इस के बाद राम ने रावण से लड़ाई की और लंका पर आक्रमण कर सीता माता को वापस लेकर आये. जिस दिन राम ने रावण को मारा उसी दिन ये एक बुराई पर अच्छे की जीत के रूप में मनाये जाने वाला त्यौहार बन गया। और तब से हर साल खूब हर्षोल्लास के साथ इसे मनाया जाता है और ये बहुत बड़ा प्रतिक बन चूका है।

दशहरा पर निबंध (Essay on Dussehra in Hindi ) 200 words

भारत त्योहारो का देश है।  इस में विभिन्न जाती के लोग रहते हैं।  हर जाती के लोगो में बहुत सारे त्यौहार मनाये जाते हैं। दशहरा हिन्दुओं द्वारा मनाये जाने वाला बहुत बड़ा त्यौहार है। ये त्यौहार बुराई पर अच्छाई का प्रतिक है। ये हर पाप को मिटाकर उस पुण्य की जीत को दर्शाता है। भारत के अलग अलग प्रांतों में इसे बड़े ही उत्साह के साथ मनाया जाता है।  ये हर साल पुरे भारत में बहुत ख़ुशी का माहौल बना देता है।  राम 14 वर्ष का वनवास काट रहे थे उसी बीच रावण ने सीता माता को अपहरण कर लिया था। उसी को पराजित करने के लिए राम ने लंका पर चढ़ाई की और रावण का वध कर के सीता माता को वापस लाये।

इस दिन पुरे देश हर जगह बड़े बड़े रावण के पुतले बनाये जाते हैं।  संध्या के समय रावण का दहन कर के बुराई पर अच्छाई की जीत को याद करते हैं। इसके साथ ही सभी अपने अंदर की बुराई को भी मरते हैं जैसे जैसे रावण जलता है। इसके साथ ही खूब आतिश बाजी की जाती है।  इसे देखने के लिए लोगों की भरी भीड़ जमा होती है। कुल मिलाकर कहें तो दशहरा जब आता है तो अपने साथ ढेर सारी खुशियों लेकर आता है।

दशहरा पर निबंध (Essay on Dussehra in Hindi ) 250 words

हिन्दू धर्म में दशहरा एक बहुत बड़ा त्यौहार है। इस त्यौहार को पुरे देश में हर प्रान्त में बहुत ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। इसे विजयदशमी भी बोला जाता है। कोलकाता में पुरे 10 दिनों तक दुर्गा पूजा का आयोजन किया जाता है।  इस त्यौहार को पश्चिम बंगाल,झारखण्ड और बिहार में खास तोर पर विशेष रूप में मनाया जाता है।  इस प्रांतो में दुर्गा पूजा के लिए बड़े बड़े पंडाल लगाए जाते हैं। इन पंडालों में बड़ी बड़ी प्रतिमाएं लगाई जाती हैं। इस के साथ ही अन्य देवी देवताओं की प्रतिमाएं भी बनायीं जाती हैं. जहाँ भी पंडाल बनती है वहां लोग हर रोज़ जाकर पूजा करते हैं। इन क्षेत्रों में पंडालों का बहुत विशेष महत्व होता है इसलिए लोग प्रसिद्ध पंडालों को देखने के लिए जाते हैं।

दुर्गा पूजा के अलावा दशहरा मानाने का सबसे बड़ी कहानी है राम और रावण के बिच हुई लड़ाई। रावण ने सीता माता का अपहरण किया और फिर राम ने लंका पर वानर सेना लेकर आक्रमण किया।  जिसमे रावण को राम ने मारकर असत्य पर सत्य की जीत को दर्शाया और ये बताया की बुराई पर अच्छाई की जीत हमेशा होती है। इस अवसर पर भारत के हर हिस्से में रावण दहन  किया जाता है। बड़े बड़े रावण के पुतले जलाने के कार्यक्रम किये जाते हैं। जगह जगह  मेले लगते हैं  और वहां लोगों की भीड़ लगी रहती है। लोग अपनी खुशियों को दूसरों के साथ बाँटते हैं। अपने अंदर की हर बुराई को रावण दहन के साथ ही ख़तम करते हैं।  रावण दहन दर्शाता है की हर साल किस तरह बुराई अच्छे से हारती है।

दशहरा पर निबंध (Essay on Dussehra in Hindi ) 300 words

भारत एक बहुत बड़ा देश है जहाँ हर धर्म के लोग रहते हैं। हर साल सभी धर्मों में विभिन्न त्यौहार मनाये जाते हैं। इसमें दशहरा हिन्दू धर्म में मनाये जाने वाला प्रमुख त्योहार है। इस त्यौहार को विजयदशमी के नाम से भी जाना जाता है।  ये बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। इस दिन से जुडी 2 बड़ी कहानियां है जिसकी वजह से ही इसे अधर्म पर धर्म की विजय के रूप में बहुत ही ख़ुशी के साथ पुरे भारतवर्ष में मनाया जाता है। रामचंद्र को जब 14 वर्ष का वनवास हुआ तो उसी बिच शूर्पणखा की नाक और कान काट दिए. इससे क्रोधित रावण ने सीता माता को धोखे से अपहरण कर लिया।  श्री राम ने वानर सेना लेकर लंका पर आक्रमण किया। अधर्मी रावण का वध किया और सीता माता को वहां से छुड़ाया।  इस दिन के बाद से है साल दशहरा का त्यौहार हर साल मनाये जाने लगा।  इसके 20 दिनों के बाद ही दिवाली का त्यौहार मनाया जाता है जिस दिन राम अयोध्या वापस आये थे तो सरे अयोध्या वासियों ने उनका स्वागत डीप जलाकर किया था।

इसी दिन माता दुर्गा ने राक्षस महिसुर का वध भी किया था।  जिसने आतंक मचा रखा था। इसी दिन को पश्चिम बंगाल, झारखण्ड बिहार और उड़ीसा में दुर्गा पूजा के रूप में भी मनाया जाता है। इसे काफी धूम धाम से मनाया जाता है।  इन राज्यों में दशहरा के दिन रावण दहन भी किया जाता है। इसके शुरुआत से हर दिन दुर्गा पूजा 10 दिनों तक चलता है। दुर्गा पूजा के लिए बड़े बड़े मंडप लगाए जाते हैं और सार्वजनिक पूजा का आयोजन किया जाता है।

इस अवसर पर हर तरफ मेले लगाए जाते हैं। मेलों में तरह तरह की दुकाने लगाई जाती है।  पुरे 10 दिनों तक लोगों के बिच बहुत उत्साह होता है। इस के लिए काफी दिनों से तयारी करते हैं और बहुत ही हर्षोउल्लास के साथ इसे मानते हैं। दुर्गा पूजा और विजयदशमी बुराई पर अच्छाई का प्रतिक है।

ये भी पढ़ें :

दश्हरा क्यों मनाया जाता है ?

दशहरा पर निबंध (Essay on Dussehra in Hindi ) 400 words

भारत त्योहारों के देश है।  साल भर अनेक तरह के त्यौहार मनाये जाते हैं।  चूँकि यहाँ भिन्न भिन्न जाती के लोग रहते हैं इसीलिए उनके त्यौहार भी भिन्न भिन्न और बहुत सारे हैं। दशहरा का त्यौहार हिन्दू धर्म में मनाये जाने वाला बहुत बड़ा त्यौहार है। इसे विजयदशमी के नाम से भी जाना जाता है।  क्यों की इसी दिन राम ने रावण का वध किया था। ये भारत में मनाये जाने वाला सबसे लम्बा त्यौहार है। इस त्यौहार के लिए कुछ राज्यों में पुरे 10 दिनों को तक की छुट्टी स्कूल और कॉलेज में दी जाती है। इस त्यौहार का बहुत  को पुरे साल इंतज़ार रहता है। और इसके 20 दिनों के बाद ही दिवाली भी मनाई जाती है.

दशहरा मानाने की कहानी काफी अनोखी है। इस के पीछे २ कारण हैं।  पहली तो ये की इसी दिन राम ने रावण को मारा और दूसरी ये की दुर्गा माता ने महिसासुर का वध किया। जब रामचंद्र वनवास में थे तो रावण ने सीता का अपहरण कर लिया था।  सुग्रीव की वानर सेना और हनुमान के सहयोग से राम ने रावण से लड़ाई की।  इसी लड़ाई में रावण का वध राम ने किया।  और पूरी दुनिया को ये सन्देश दिया की अधर्म कितना भी शक्तिशाली हो धर्म से विजयी नहीं प्राप्त कर सकता। जीत हमेशा सत्य की ही होती है।

जब महिसासुर राक्षस पुरे लोको में तबाही मचा रहा था तब सभी शक्तियों को मिला कर दुर्गा माता की उत्पत्ति हुई।  दुर्गा माता ने महिसासुर का वध कर के सभी की रक्षा की। वो भी शक्ति की प्रतिक है और दर्शाती हैं की असुर आधार राक्षस शक्तिशाली होते हुए भी भी धर्म के आगे टिक नहीं सका। दुर्गा माता से लड़ते हुए वो मारा गया।

दशहरा जब आता है ततो अपने साथ ढेर साडी खुशियों को भी लेकर आता है।  ये पुरे 10 दिनों तक मनाया जाता है।  इसीलिए इस अवसर पर स्कूल और कॉलेज में लंबी छुट्टी होती है। पुरे नवरात्री पर हर रोज़ रामलीला का आयोजन  किया जाता है।  जगह जगह मेलों का आयोजन किया जाता है। मेलों में लोगों की काफी भीड़ लगी होती है।  दशहरा के पहले दिन से लोगों के मेलों में तांता लगा रहता है।  लोग हर दिन मेला घूमने और खरीददारी करने के लिए जाते हैं।  बाज़ारों को सजा कर रखा जाता है और दुकाने तरह तरह के सामान से भरे हुए रहते है। ये देश के हर हिस्से में अलग अलग तरीके से मनाया जाता है। देश के कुछ हिस्सों में रावण दहन नहीं किया जाता।  कई हिस्सों में दुर्गा पूजा का विशेष आयोजन किया जाता है।

दशहरा के उपलक्ष में कई तरह के कार्यक्रम किये जाते हैं।  ये देश की हर हिस्से की अलग अलग संस्कृति को भी दर्शाता है।  जैसे पश्चिम बंगाल दुर्गा पूजा के लिए प्रसिद्ध है तो गुजरात नवरात्री में आयोजित डांडिया के लिए। दशहरा के पहले पुरे 9 दिनों तक पश्चिमी राज्यों में नवरात्री धूमधाम से मनाई जाती है। वहीँ दशहरा के दिन रावण दहन होता है।  और इसके बाद दुर्गा विसर्जन भी किया जाता है। इस तरह पूरा देश दशहरा के अवसर में खुशियों में डूबा होता है। लोग अपनी खुशियों में अपने परिवार के लोगों से मिलना जुलना और उनके साथ ाचा समय बिताना पसंद करते हैं।

अंतिम राय इस लेख पर

दोस्तों आपको ये लेख दशहरा पर निबंध (Essay on dussehra in hindi) कैसी लगी? इस लेख के जरिये मैंने ये जानकारी देने की कोशिश की है की आप लोगो को दशहरा के अनेक पहलु में जानकारी हासिल करने का मौका मिल सके।  इस में मैंने दशहरा क्यों मनाया जाता है और देश के अलग अलग प्रांतों में कैसे मनाया जाता है इसे भी आएं शब्दों में बताने का पर्यटन किया है।

उम्मीद करता हूँ की आपको ये पोस्ट बहुत पसंद आयी होगी।  मैंने ये लेख खासकर विद्यार्थियों के लिए तैयार किया जो स्कूल और कॉलेज में दशहरा के ऊपर निबंध का प्रयोग करना चाहते हैं।  स्कूल में पढ़ने वाले अलग अलग वर्ग के छात्रों के लिए अलग अलग शब्दों की संख्या के अनुसार लिखा है. उम्मीद करता हु की इसी आपको मदद मिलेगी।  अगर ये लेख अच्छी लगी होगी तो इसे सोशल मीडिया में शेयर करे।

दशहरा पर निबंध – Essay on Dussehra in Hindi
4.7 (94.67%) 15 votes

Leave a Comment