स्वतंत्रता दिवस पर भाषण – Speech on Independence day 2020 in Hindi

अगर आप विद्यालय में पढ़ने वाले छात्र हैं या फिर कॉलेज में जाने वाले एक युवा आपको 15 अगस्त के अवसर पर भाषण देना होता है और इसीलिए आज के इस पोस्ट में हम आपके लिए प्रेरणा से भरे स्वतंत्रता दिवस पर भाषण (Motivational Independence day speech in Hindi 2020) लेकर आए हैं.

हर साल भारत में 15 अगस्त का दिन स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है और इस अवसर पर सभी स्कूल कॉलेज एवं प्राइवेट तथा सरकारी कार्यालयों में इस उपलक्ष में समारोह आयोजित किए जाते हैं. जिसमें कई प्रकार के कार्यक्रम होते हैं और उनमें देश के प्रति समर्पित भाषण भी दिया जाता है.

हमारा देश भारत कई बार विदेशी ताकतों का शिकार हुआ है और हर बार सामना किया और फिर से खड़ा हुआ है. इनमें सबसे लंबा ब्रिटिश शासन रहा है जिसने पूरे भारत को गुलामी की जंजीरों में जकड़ रखा था.

इसीलिए स्वतंत्रता दिवस के दिन हम अपने उन वीरों को श्रद्धांजलि देते हैं और याद करते हैं जिन्होंने इस देश की आजादी के लिए कई प्रकार से अपनी कुर्बानिया दी. इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको पंद्रह अगस्त पर भाषण के कलेक्शन की तरफ लेकर जाते हैं जो सिर्फ आपके लिए तैयार किए हैं.

15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर भाषण – Motivational Independence day speech in Hindi 2020

Independence Day speech in Hindi for students - 15 अगस्त पर भाषण

यह देश वीरों का है, यह देश जवानों का है, यह देश बलिदानों का है. इस देश में अनेक विदेशी ताकतों को सहा है, उनसे लड़ा है और फिर उन्हें हराया भी है.

ब्रिटिश शासन भी इन्हीं में से एक है जिसने भारत को गुलाम बनाए रखा और यह समय काफी लंबा था क्योंकि उन्होंने 200 सालों तक देश को जंजीरों में जकड़ा रखा.

उनके शासनकाल के दौरान भारतीयों पर अत्याचार हुआ करते थे और काफी भेदभाव भी होता था. गुलामी की जंजीरों में जकड़े तोड़ने के लिए हमारे देश के वीरों ने अपने जानू को निछावर कर दिया.

छात्रों के लिए मोटिवेशनल इंडिपेंडेंस डे स्पीच इन हिंदी 2020

आदरणीय मुख्य अतिथि महोदय, सभापति महोदय, प्रधानाध्यापक, शिक्षक गण, अभिभावक गण और मेरे सहपाठियों.

आज हम अपने देश की स्वतंत्रता दिवस की 74 वीं वर्षगांठ मनाने के लिए एकत्रित हुए हैं.

यह दिन भारत के इतिहास में सुनहरे अक्षरों से लिखा हुआ है जिसे हर भारतीय जानता है और इसकी वजह से अपने आपको गौरवान्वित समझता है.

15 अगस्त 1947 को भारत अंग्रेजों के शासन से आजाद हुआ. इस आजादी के लिए भारत के कई माताओं ने अपने बेटे कुर्बान किए, कई दुल्हनों ने अपने सुहागो को बलिदान होने के लिए भेजा, तब जाकर यह आजादी हमें मिली.

अंग्रेजो ने हमारे देश में लगभग 200 सालों तक शासन किया और भारतीयों पर बहुत अत्याचार भी की है.

उनके शासनकाल के दौरान भारतीयों को काफी तकलीफों का सामना करना पड़ा और उनके द्वारा किए गए अत्याचार सहना पड़ा.

लेकिन कहते हैं ना की अति का अंत जरूर होता है. ठीक उसी प्रकार इस ब्रिटिश शासन का भी 15 अगस्त 1947 को अंत हुआ और भारत को आजादी मिली.

इस आजादी की गवाह हम भी हैं क्योंकि हमारे पूर्वजों ने भी इसके लिए अपना बलिदान दिया है और आज हम स्वतंत्र भारत में चैन की सांस लेते हैं और अपने मन मुताबिक अपनी जिंदगी को गुजारते हैं.

जहां हम भारत के स्वतंत्रता की बात करें और महात्मा गांधी का नाम ना आए ऐसा हो ही नहीं सकता. गांधी जी ने अपने अहिंसा के रास्ते पर चलते हुए भारत की आजादी के लिए कई आंदोलन किए.

उनके आंदोलनों की वजह से देश की जनता को एकजुट होने में काफी मदद मिली और अंग्रेजो के खिलाफ इन्होंने अहिंसा का मार्ग अपनाकर अपनी लड़ाई जारी रखी.

चंद्रशेखर आजाद, भगत सिंह, अशफाक उल्ला खान, राजगुरु, सुखदेव, सुभाष चंद्र बोस और ना जाने कितने ऐसे वीरों ने अपने पूरी जिंदगी भारत के आजादी के नाम लिख दी.

हर भारतीय को अपने स्वतंत्रता सेनानियों पर गर्व है और इस दिन हम इन सभी को दिल से याद करते हैं और उनको श्रद्धांजलि देते हैं.

इन्हीं शब्दों के साथ में अपना वक्तव्य समाप्त करता हूं.

जय हिंद जय भारत

15 अगस्त पर भाषण – Heart touching speech on independence day in Hindi

आदरणीय सभापति महोदय प्रधानाध्यापक महोदय अभिभावक गण और मेरे सहपाठियों.

आज हमारे लिए बहुत खुशी का दिन है क्योंकि आज हम भारत की स्वतंत्रता दिवस मना रहे हैं.

हर साल 15 अगस्त को भारत के कोने कोने में राष्ट्रीय ध्वज कब फहराया जाता है और हमारे स्वतंत्रता सेनानियों को ज्ञात किया जाता है.

स्वतंत्रता सेनानियों को श्रद्धांजलि दी जाती है जिन्होंने भारत की आजादी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. उन्होंने अपनी जानो का बलिदान दिया.

अपने घर त्याग दिए उन सुख त्याग दिए और भारत की आजादी की लड़ाई में अंग्रेजो के खिलाफ डटकर खड़े हुए.

उन्हीं की कुर्बानियों का नतीजा है कि आज हम यहां पर खुली हवा में खड़े होकर अपना राष्ट्रीय ध्वज लहरा रहे हैं.

15 अगस्त 1947 के पहले हमारा देश अंग्रेजों का गुलाम था. अंग्रेज भारत में ईस्ट इंडिया कंपनी के रूप में आए. शुरुआत में इन्होंने व्यापार के बहाने से भारत में शरण ली और फिर धीरे-धीरे इन्होंने भारत पर कब्जा कर लिया.

इनके शासन के समय अंतराल में भारतीयों पर काफी अत्याचार हुए.

भारत देश वीरों का देश है और हमेशा से यहां पर वीर सपूत पैदा होते रहे हैं.

अंग्रेजों के अत्याचार के विरुद्ध भारत के वीरों ने जंग छेड़ दी.

भारत के वीर अंग्रेजो के खिलाफ खड़े हुए जबकि कई लोगों ने अहिंसा के रास्ते पर चलकर अंग्रेजों का विरोध किया और उन्हें भारत छोड़ने के लिए विवश कर दिया.

हमारे राष्ट्रपिता उन्हीं में से एक हैं जिन्होंने अहिंसा का मार्ग अपनाया और इसमें कई भारतीय शामिल हुए. उन्होंने महात्मा गांधी का पूरा समर्थन किया और अंग्रेजो के खिलाफ आंदोलन करते रहे.

सुभाष चंद्र बोस की बात करें तो उन्होंने आजाद हिंद फौज की गठन की और अंग्रेजो के खिलाफ लड़े. सरदार भगत सिंह ने बचपन से ही भारत की आजादी के लिए अपना काम शुरू कर दिया.

23 मार्च 1931 को भगत सिंह ने अपने देश के लिए हंसते-हंसते अपनी जान की कुर्बानी दे दी.

उसी देश के वासी हैं जिस देश में इन सभी बहनों ने जन्म लिया.

हम अपने भारतवर्ष पर गर्व करते हैं और इस की एकता और अखंडता के लिए हमेशा तत्पर खड़े तैयार रहते हैं.

आज हम सभी देशवासी यह प्रण करते हैं कि जब तक जिएंगे देश के लिए जिएंगे और मरेंगे तो देश के लिए मरेंगे.

चाहे कोई बाहरी ताकत आ जाए हम सब मिलकर एक साथ उसका सामना करेंगे और उस को पराजित करेंगे.

शब्दों के साथ में अपना भाषण समाप्त करता हूं.

जय हिंद जय भारत

Independence day speech for students in Hindi short

स्कूल के छात्रों के लिए स्वतंत्रता दिवस पर भाषण

15 अगस्त भारतीय इतिहास के सुनहरे अक्षरों में लिखी हुई एक तिथि है जिसे हर भारतीय जानता है और हमेशा दिमाग में रहता है.

यह भारत की आजादी का दिन है जब 15 अगस्त 1947 ईस्वी में अंग्रेजो के खिलाफ काफी लंबी लड़ाई के बाद भारत को आजादी मिली.

जब जब देश पर आपत्ति आई और देश संकट में पड़ा तब तक भारत की भूमि ने ऐसे वीरों को जन्म दिया जिन्होंने अपने प्राण तक न्यौछावर कर दिए लेकिन कभी भी इन ताकतों के सामने नहीं झुके.

ऐसे ही वीरों ने हमारे भारत को अंग्रेजों के चंगुल से भी छुड़ाया और अंततः स्वतंत्रता दिवस के रूप में हमें एक राष्ट्रीय त्यौहार मनाने का अवसर दिया.

ब्रिटिश शासन काफी व्यस्त था और उसने विश्व के कई देशों को गुलाम बनाया. भारत में भी यह व्यापार करने के बहाने से आए और फिर भारत पर धीरे-धीरे कब्जा कर लिया.

अंग्रेजों ने हमेशा भारत के लोगों पर अत्याचार किया और हीन भावना से देखा करते थे. भारतीय के साथ उनका व्यवहार काफी क्रूर हुआ करता था.

यही वजह है कि सन 1857 ईसवी में पहली लड़ाई अंग्रेजों के खिलाफ शुरू हुई और रानी लक्ष्मीबाई ने इसका नेतृत्व किया.

उसी साल सैनिक विद्रोह शुरू हुआ. जिसने अंग्रेजो को दिखा दिया कि भारत के लोग ऐसे शांत गुलामी की जंजीरों में नहीं रह सकते.

इससे पूरे भारत में लोगों को प्रेरणा मिली और इस प्रकार पूरे भारत में एक लहर दौड़ पड़ी और सभी अपने स्तर से अंग्रेजों का विरोध करने लगे.

भारत विविधताओं का देश है और इसमें कई धर्म एक साथ मिलकर रहते हैं. आजादी की लड़ाई में हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई सभी ने एक साथ करना मिलाकर अंग्रेजों के साथ लड़ाई की.

सभी ने देश की आजादी में अपना अहम योगदान दिया. परिणाम स्वरूप 15 अगस्त 1947 ईस्वी को अंग्रेजों को भारत छोड़कर जाना पड़ा.

हर साल हम 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाते हैं और इस आजादी की सालगिरह के दिन अपने हीरो को याद करते हैं जिन्होंने देश के लिए हंसते-हंसते अपनी प्राणों की कुर्बानी दे दी.

हम अपने सैनिकों को याद करते हैं जो आज बॉर्डर पर खड़े हैं और देश की रक्षा के लिए दिन-रात सीमा पर खड़े रहकर पहरेदारी करते हैं.

आज के दिन हम अपने राष्ट्रीय ध्वज को फहराते हैं और फिर उसे सलामी देते हैं और राष्ट्रगान भी गाते हैं. हमें अपने देश की एकता और अखंडता को ऐसे ही हमेशा मजबूत बना कर रखना है.

आज हम सब मिलकर शपथ लेते हैं हम भी अपने देश की एकता और अखंडता को बनाए रखेंगे. जो भी हमारी देश की तरफ निगाह डालेगा उसे हम बर्बाद कर देंगे.

इन्हीं शब्दों के साथ मैं अपनी वाणी को विराम देना चाहता हूं.

जय हिंद जय भारत

निष्कर्ष

15 अगस्त के दिन हम उन सभी वीरों को याद करते हैं और उन्हें श्रद्धांजलि देते हैं. इसीलिए स्कूल और कॉलेज एवं कार्यालय में भाषण के जरिए सभी को याद किया जाता है.

इसीलिए इस पोस्ट में हमने स्कूल में पढ़ने वाले छात्रों के लिए 15 अगस्त पर भाषण (15th August Speech in Hindi) की कलेक्शन पेश की जो निश्चित तौर पर आपको अपने स्कूल में काम आएगी.

दिल को छू लेने वाले स्वतंत्रता दिवस पर भाषण (Heart touching Independence day speech in Hindi 2020) आपको जरूर पसंद आएगी. अगर आपको यह भाषा अच्छे लगे तो अपने दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें.

Leave a Comment