70+ सुहाना मौसम शायरी इन हिंदी फॉर व्हाट्सप्प एंड फेसबुक

नमस्कार। इस पोस्ट में हम आपके लिए मौसम शायरी लेकर आये हैं. इन शायरी को आप किसी  भी सोशल नेटवर्किंग साइट पर आसानी से शेयर कर सकते हैं.

‘मौसम’ यह शब्द तो अरेबिक है, लेकिन इस शब्द से पूरी दुनिया के लोगो की फीलिंग्स जुडी होती हैं. हर किसी को किसी न किसी मौसम से लगाव होता है. अगर मैं अपनी ही बात करूँ, तो सर्दियों का मौसम मुझे बेहद पसंद है. जब भी मैं कोहरे की चादर से ढकी हुई कोई सड़क देखता हूँ, तो मानो मेरा दिल बाग-बाग़ हो उठता है.

मौसम शायरी

मौसम जाने जाते हैं अपने बदलाव के लिए. और यही खासियत इन्हे खूबसूरती देती है. यदि मौसम न बदलते तो क्या ज़िन्दगी इतनी खुश मिजाज़ होती? मुझे तो नहीं लगता. मौसम के बदलाव की वजह से ही इस दुनिया में जीवन है. कभी कभी मौसम सुहाना होता है, लेकिन कभी कभी परिस्तिथियाँ एकदम विपरीत होती हैं. कभी धुप ज़्यादा होती है तो कभी बरसात.

मौसम शब्द पर बहुत से शायरों ने शायरियां लिखीं हैं. और हम उन में से कुछ चुनिंदा शायरी आपके लिए लाये हैं जिनको आप किसी भी मौसम में अपने  फेसबुक अकाउंट, ट्विटर हैंडल, इंस्टाग्राम या व्हाट्सप्प पर शेयर कर सकते हैं. तो जो शायरी आपको पसंद आये, उसे छांट कर जल्दी से शेयर करें.

 

मौसम शायरी इन हिंदी

 

इश्क़ में एक ही मौसम है बहारों का मौसम

लोग भला मौसम की तरह फिर कैसे बदल जाते हैं

 

दिन छोटे और रातें लेम्बी होने लगी है

मौसम ने यादों का समय बढा दिया

 

हर एक बदलते हुए मौसम में याद आता है

वह शक्स जो मेरा नामों निशां भूल गया।

 

कहीं मैं फिसल न जाऊं तेरे ख्यालों में चलते चलते…

अपनी यादों को ज़रा रोको मेरे शहर में बारिश हो रही है…

 

बरसता और भीगता मौसम धुआं धुआं होगा..

पिघलती शमा पे दिल का मेरे गुमां होगा

 

आज मौसम बहुत सर्द है ऐ दिल,

चलो ज़रा कुछ ख्वाहिशों को आग लगायें…

 

ये शाख़-ए-गुल है आईना-ए-नुमू से आप तो वाकिफ़ है

समझती है कि इस मौसम के सितम होते ही रहते हैं’

 

दिसंबर सा हूँ मैं..जनवरी सी तुम..

इतना करीब हो के भी बहुत दूर हैं हम..

 

धूप सा रंग है और खुद है वो छाँवो जैसा

उसकी पायलों में बरसात का मौसम छनके

 

 सुहाना मौसम शायरी

 

वाह मौसम आज तेरी अदा पर मेरा दिल खुश हो गया…

उसकी याद मुझे आई और बरस तू गया

 

तपिश और बढ़ गई मेरी इन चंद बूंदों के बाद,

काले बादलों ने भी बस यूँ ही बहलाया मुझे।

 

वह मुझ को सौंप गया फुरकतैं दिसंबर महीने में

दरखते जा पे वही सर्दियों का मौसम है।

 

कुछ तो फ़िज़ा भी सर्द थी

कुछ थी तेरी याद भी,

मेरे दिल को ख़ुशी के साथ साथ

होता रहा मलाल भी।

 

हमें इस सर्दी के मौसम में तेरी यादें सताती हैं

तुम्हें यह एहसास होने तक दिसंबर बीत जायेगा।

 

कुछ तो तेरे मौसम भी मुझे रास कम आए,

और कुछ मेरी मिट्टी में बग़ावत भी अधिक थी।

 

बहुत ही शीत है अब के दयार-ए-शौक़ का मौसम,

चलो गुज़रे दिनों की राख में हम चिंगारियाँ ढूँडें !

 

तेरे तसव्वुर की धूप ओढ़े खड़ा हूँ मैं छत पर

मिरे लिए सर्दियों का मौसम ज़रा हटके है !!

 

कोहराम मचा रखा है जनवरी की सर्द फ़िज़ाओं ने..

और एक तेरे दिल का मौसम है जो कभी बदलने का नाम नही लेता!!

 

कोई मुझ से पूछ बैठा की ‘बदलना’ किस को कहते हैं?

सोच में पड़ गया हूँ कि भला मिसाल किस की दूँ ?

“मौसम” की या फिर “अपनों” की..!!!!!

 

माना बरसता भीगता मौसम है कमज़ोरी मेरी लेकिन,

मैं ये सावन, घटा, और बादल तुम्हारे नाम करता हूँ…

 

अपने किरदार को इस मौसम से बचाए रखना !

दोबारा लौट कर फूलों में वापस नहीं आती खुशबू.”

 

ज़वाल-ए-मौसम-ए-ख़ुश-रंग का गिला ‘आसिम’

ज़मीन से तो नहीं अम्बर से होता है

 

बरसती हुई बारिश से बस इतना ही कहना है

के ऐसा ही एक मौसम मेरे अंदर भी रहता है

उरूज पे है चमन में बहार का मौसम

सफ़र शुरू ख़िज़ाँ का यहीं से होता है

 

काश तुझे सर्दी के मौसम मे लगे प्यार की ठंड,

और तू तड़प कर माँगे मुझे रज़ाई की तरह..!

 

कब तक अपने दिल में जगह दोगे हवा के ख़ौफ़ को,

बादबाँ खोलो कि मौसम का इशारा हो चुका !!

वही है शमा वही खुशगवार मौसम फ़िर,

मैं कर रहा हूँ मेरी ख़्वाहिशों का मातम फ़िरसे।।।

 

बारिश स्टेटस इन हिंदी

किसके नक्श-ए-पा पड़े पलकें वजू करने लगीं,

मौसमो का रंग बदला और रुत सुहानी हो गयी

 

बलखाने दे अपनी जुल्फों को इन हवाओं में,

जूड़ा बांधकर तू इस मौसम को परेशां न कर.

 

वही पर्दा,वही खिड़की,वही मौसम और वही आहट

शरारत है,शरारत है,शरारत है,शरारत है

 

तुम बारिश के मौसम की तरह बदल रही हो,,

और मैं खड़ी फसल की तरह बरबाद हो रहा हूँ..!!

 

क्यों आग सी लगा कर गुमसुम है चाँदनी,

सोने भी नहीं देता हमको मौसम का ये इशारा !!

 

ये समय भी गुज़र ही जाएगा,

ये दिन भी ढल ही जाएगा,

और ये मौसम भी बदल ही जाएगा,

नहीं बदलेगा तो ये दिल

जो केवल तुम्हारे लिए धड़कता है।

 

सर्द मौसम में छनी हुयी धुप सी लगते हो

कोई बादल हरे मौसम का फ़िर से ऐलान करता है,

 

सुना है आज तू फिरसे मुझसे ख़फ़ा है

जाने कैसे, मग़र मौसमों को भी यह पता है

 

अबके बारिश की रुत और भी भड़कीली है,

जिस्म से आग निकलती है और क़बा गीली है !!

 

ख्वाहिशों की बारिश का

कोई मौसम कहां होता है?

वो तो बेधूंदसी बरसती हैं,

बिना रूके, बढ़ती हुई उम्र की तरह।

 

फनी मौसम शायरी

हम तो रूठी हुई रुत को भी मना लेते थे,

हम ने देखा ही न था मौसम-ए-हिज्राँ जानाँ !!

 

आम का मौसम है,बाग …तुम्हे दिखा दूँ क्या?

जल जल के हुआ हूँ मैं,कितना राख…तुम्हे दिखा दूँ क्या?

और शहर में कुछ लोग मुझे काफ़िर कहते है,

अंदर से कितना हूँ मैं पाक… तुम्हे दिखा दूँ क्या?

 

लो बदल गया मौसम

बिलकुल तुम्हारी तरह!!

 

पत्तों और शाखों पर

मौसम आ गया है

ज़रा संभलना

अब बारी तेरे दिल की है

 

बदला जो रंग उसने तो हैरत हुयी मुझे,

मौसम को भी पीछे छोड़ गयी फ़ितरत जनाब की।

 

दिन भर जलता हूँ मैं,

शाम बरस जाता हूँ मैं,

मैं इश्क़ हूँ जनाब

तुम्हारे शहर का मौसम नहीं हूँ मैं।

 

मौसम-ए-बहार है और अम्बरीं ख़ुमार है

भला किसका इंतिज़ार है गेसुओं को खोलिए !!

 

जाने वो कैसा मुझे लगा कर गयी रंग

जितना छुड़ाऊँ, उतरता ही नहीं है

भीगा हूँ रहता मोहब्बत में हरदम

इश्क़ का मौसम गुजरता नहीं है

 

बहोत ही हसीं मौसम था, वो थी और थी चाय

मोहब्बत लाज़मी थी, बचने का न था कोई भी उपाय।

 

मेरे ही खयाल लिख दिए कुछ …

मैं तो आज भी रूठी हुई रुत को माना लेता हूँ….

 

आप बदले, मौसम भी बदला

चलो थोड़ा सीखा दो, हमें भी बदलना

 

भला किसने जाना है बदलते हुए मौसम का मिज़ाज

उसको चाहो तब समझ पाओगे फ़ितरत उसकी !!

 

मौसम तो मुझे बारिश का ही पसन्द आता है

क्या करें उसमें तो तुम्हारी कमी नही खलती

कमबख़्त ये गर्मियां सर्दियां मुझे सता जाती हैं

जब तेरी ज़ुल्फें और तेरी शॉल मुझे नहीं मिलती।

 

मैं तो रूठी हुयी रुत को भी मना लेता था,

तूने देखा ही नहीं मौसम ऐ हिज्राँ जानाँ !!

 

फनी रेन स्टेटस इन हिंदी

 

आज फिर इन हवाओं ने एक गुस्ताखी की है,

मिज़ाज रुत का अफ़सुर्दा नज़र आता है !

 

मौसम सर्द ही सही दिल के आहों से मगर,

तेरी यादों से आज भी पिघल जाते हैं हम।

 

ये ठंडी फ़िज़ा, सर्द-मौसम में,

क्या देखकर, कुछ याद आता है तुम्हें ?

..ठीक तुम्हारी बातें भी,ऐसी ही रहती थीं।

 

लुत्फ़ जो उस के इंतज़ार में है

वो कहाँ इस मौसम-ए-बहार में है !!

 

सुना है आजकल तुम हर समय भीगी रहती हो

कब तक रहेगा तुम्हारे शहर में बरसात का मौसम?

 

ये हसीं मौसम, ये नज़ारे, ये बरसात, ये हवाएँ,

लगता है इश्क़ ने फिर मेरा साथ दिया है…

 

आप रुत ज़रा बदलने तो दो ।

काँटो जैसा बस आजकल लगता हूँ ।।

 

अपनी सी लगती है मुझे हर नमी अब तो,

इन आँखों ने खुश्क मौसम कभी देखे ही नहीं।

 

मुझको तुम पर प्यार आया

तुमको मुझ पर प्यार आया

मौसम बदल रहा है,

लगता है शायद फिर से ‘मौसमी बुख़ार’ आया

 

कोई मौसम हो दिल-गुलिस्ताँ में,

आरज़ू के गुलाब अभी ताज़ा हैं …

 

लगता है मोहब्बत उफान पर है

आजकल प्यार सबकी जुबान पर है

ये मौसम का जादू तो नहीं है दोस्तों

आशिकी बस दो दिनों की मेहमान भर है

 

मौसम सा मिज़ाज़ है मेरा,

कभी बरसता सावन तो कभी सर्द हवा हूँ मैं।

 

काश तुम ऋतु जैसे होते,

थोड़ी देर और फिर रुक जाते!

पर तुम तो मौसम जैसे निकले,

पल भर में ही बदल से गये!

 

हुए गिरफ़्तार-ए-इश्क़ सनम तेरे मोहब्बत में

जो तुमने हर मौसम को रंगीन बनाया मेरे प्यार में

 

मेरी दीवानगी क्यों मुन्तज़िर है रुत बदलने की,

कोई मौसम भी होता है अपने जुनूँ को आज़माने का !!

 

 

रूमानियत मोहब्बत की बिखरी सी है फिजाओं में,

दीवाना हुआ मौसम और सरगोशियाँ हवाओं में है !

 

मुझको बे-रंग ही कर दें न कहीं रंग इतने,

सब्ज़ मौसम है, फ़िज़ा सुर्ख़, फ़ज़ा नीली है!!

 

जब भी आते हो तुम मौसम की तरह बदलने की बात करते हो,

कभी हरेक रुत में रुककर कयामत तक मेरा इंतज़ार करो अगर तब कुछ बात हो।

 

चम्पई सुब्हें पीली दो-पहरें सुरमई शामें

दिन ढलने से पहले भला कितने रंग बदलता है

 

मौसम शायरी 2 लाइन

 

कोई प्यार में भीगता है

कोई प्यार में जलता है

ये प्यार का मौसम भी

बड़ी जल्दी बदलता है

 

मौसम ने बनाया है नज़रों को शराबी,

जिस भी फूल को देखूं वोही पैमाना हुआ है!!

 

कोई दर्द कभी इस कदर रुला देता है, कि

बादल भी आकर आंखों से बरसात ले जाता है.

 

संक्षेप में

दोस्तों, हमारा आर्टिकल 70+ सुहाना मौसम शायरी इन हिंदी फॉर व्हाट्सप्प एंड फेसबुक आपको कैसे लगा? हम उम्मीद करते हैं की आपको यह आर्टिकल बेहद पसंद आया होगा  माध्यम से अपने जज़्बातों को अच्छे से बयां कर पाए होंगे. हमने इस आर्टिकल के ज़रिये आपको मौसम से जुडी कुछ शायरी प्रस्तुत करने की कोशिश की है जिनको आप किसी भी सोशल नेटवर्किंग साइट पर आसानी इ लगा सकते हैं.

अगर इस पोस्ट के ज़रिये आप अपने मौसम शायरी को शेयर करने का मकसद को पूरा कर पाए हों, तो कृपया कमेंट बॉक्स में हमें ज़रूर बातएं. इस पोस्ट को अपने रिश्तेदारों और दोस्तों के साथ भी शेयर करें ताकि वे भी काम आने पर इस पोस्ट का भरपूर फायदा उठा पाएं. हम आपके लिए ऐसे भी बेहतरीन शायरी आगे भी लाते रहेंगे.

धन्यवाद.

 

 

 

 

Leave a Comment