आयुष्मान  भारत  कार्ड  4  पॉइंट्स  में समझें क्या-क्या सुविधाएं बढ़ीं 

इस योजना के तहत अब इस स्वास्थ्य कार्ड का लाभ ट्रांसजेंडर भी ले सकेंगे. इसके लिए गृह मंत्रालय और सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय के बीच करार हुआ है. आयुष्मान भारत योजना में 5 लाख परिवारों को कवरेज देने का प्रावधान है. 

आयुष्मान भारत कार्ड का नाम बदल गया है. अब इसका नाम आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना – मुख्यमंत्री योजना रखा गया है. नए नाम में राज्यों की भी भागीदारी दिखती है क्योंकि राज्य पहले से ऐसा चाहते थे.

केंद्र सरकार के साथ साथ राज्य सरकारें भी आयुष्मान भारत योजना की ब्रांडिंग करेंगी. दोनों की को-ब्रांडिंग के मद्देनजर नाम बदलने का फैसला हुआ है क्योंकि कई राज्यों को पहले सिर्फ आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के कार्ड पर नाम से आपत्ति थी.

नाम के साथ सुविधाएं भी बढ़ी कुछ राज्य ऐसे भी हैं जहां 5 लाख रुपये से ज्यादा के हेल्थ बेनिफिट की योजना है. 5 लाख केंद्र की ओर से तो बाकी के पैसे राज्य सरकार देते हैं. ऐसे में स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ 5 लाख रुपये से बढ़ जाती है

ऐसे में जिन राज्यों में 5 लाख से ज्यादा की योजना है वहां 5 लाख की रकम तो आयुष्मान भारत की तरफ से इलाज के लिए मिलेगा. उसके ऊपर की रकम राज्य सरकार देगी. इससे लोगों को दोहरी लाभ होगी क्योंकि इलाज के लिए अधिक पैसा चाहिए तो केंद्र और राज्य दोनों की हिस्सेदारी से सुविधाओं में बढ़ोतरी होगी.

पंजाब में आयुष्मान भारत योजना लागू तो है, लेकिन वहां की सरकार लोगों को बेनिफिट देने में आनाकानी कर रही है. इसे लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने पंजाब सरकार से बात की है. मनसुख मंडाविया ने कहा है कि अगर राज्य सरकार ऐसे आनाकानी करती रही तो आयुषमान योजना आगे जारी रखने में दिक्कत होगी.