lpg gass :एलपीजी सिलेंडर से बनाते हैं खाना, यह नंबर तुरंत सेव कर लें  

जागरण संवाददाता, पटना। एलपीजी का अगर आप उपयोग करते हैं तो इसके सुरक्षा मानकों का भी ध्यान रखना जरूरी है। 

आए दिन मामूली चूक की वजह से जान-माल के नुकसान होने की खबरें आती रहती हैं। ऐसे में जरूरी है कि हम सरकारी तेल एवं गैस कंपनियों की ओर से जारी निर्देशों का पालन करें। 

लीकेज की स्थिति में 1906 नंबर पर काल करना चाहिए। यह नंबर आइओसीएल के साथ ही बीपीसीएल और एचपीसीएल के उपभोक्ताओं के लिए भी है। 

एलपीजी सिलेंडर को हमेशा सीधा रखें। जब गैस खत्म होने लगती है तो कई लोग सिलेंडर को तिरछा करते हैं, यह खतरनाक है। रबर पाइप आइएसआई मार्क वाला हो। 

गैस चूल्हा सिलेंडर से कम से कम छह इंच ऊपर किसी समतल स्थान पर रखें। खाना हमेशा खडा रहकर बनाएं। सूती वस्त्र ही पहनें। गर्म बर्तन को पल्लू से पकडकर न उतारें, चिमटे का उपयोग करें। सोते समय रेग्यूलेटर बंद कर दें। 

चूल्हा को ऐसे स्थान पर रखें जहां बाहर से सीधी हवा न लगे। खिडकी के सामने चूल्हा न जलाएं। एलपीजी चूल्हा के पास इलेक्ट्रिक या किरासन स्टोव आदि न जलाएं। 

पहले माचिस की तिल्ली जलाएं फिरगैस आन करें। गैस की गंध आने पर बिजली का स्विच , लाइटर, माचिस न चलाएं। सभी खिड़की, दरवाजे खोल दें।